Website.Home.Welcome.OldStudents.SectionTitle

गोएन्काजी से एक संदेश

धम्म, के पथ पर प्रिय यात्रियों
मंगल हो!
धम्म की मशाल प्रज्वलित रखे! अपना दैनिक जीवन उज्वल हो. हमेशा याद रखे, धम्म एक पलायन नहीं है. यह जीने की एक कला है: शांति और सद्भाव से अपने साथ और सभी अन्य लोगों के साथ रहना. इसलिए, धम्म जीवन जीने का प्रयास करें.
हर सुबह और शाम को अपने दैनिक अभ्यास कों मत छोडिये.
जब भी संभव हो, अन्य विपश्यना साधक के साथ साप्ताहिक सामूहिक साधना में भाग लिजिये.
वर्ष मे एक बार एक दस दिवसीय शिविर करे. यह आप को मजबूत रखने के लिए आवश्यक है.
विश्वास के साथ, आप आसपास के कांटोसे बहादुरी और मुस्करा कर सामना करे.
नफरत और द्वेष छोड दिजिये, इससे शत्रूता खत्म होगी.
लोग, विशेषतः जिनको धम्म समझाही नही और दुखी जीवन जीते है, उनके प्रती प्रेम और करुणा उत्पन्न किजिये.
अपना धम्म व्यवहार उन्हें शांति और सौहार्द्र का मार्ग दिखा दे. अपने चेहरे पर की धम्म की चमक असली खुशी के इस मार्ग पर अधिक से अधिक दुखी लोगों को आकर्षित करे.
सभी प्राणियों सुखी, शांतिपूर्ण, मुक्त हो.
मेरे सारे मैत्री के साथ,
एस एन गोएन्का


old_student_practice


धम्म सेवा


पुराने साधकों का संदर्भ


संसाधन

  • ऑडियो संसाधन
    •  १० दिनके प्रवचन,महासतिपठ्ठान सुत्त,१/२/3-दिन,और ७-दिन युवक शिविर;प्रातःकालीन वंदनाए और १० दिवसिय शिविर दोहे;विशेष वंदनाए;और लघु आनापान के निर्देश सहित ऑडियो संसाधनसे विभिन्न भाषामे सुनिये या डाउनलोड करे. 
  • VipassanaNewsletter
    • MobileApp.about_old_students_resources
  • reading